Skip to main content

रेज़गारी


बात1976 की है, हम उन दिनों राम कृष्ण पुरम सेक्टर -6 में रहते थे। मुझे तो आज तक उस घर का नम्बर भी याद है, A 198 पास ही स्कुल था और स्कुल के सामने घर। बड़ी दीदी को 5 पैसे मेरी मझली दीदी को भी 5 पैसे और भाई और मुझे भी 5 पैसे रोज़ के मिलते थे। पांच पैसे मेरे हाथ में जैसे ही आए.में आइस बार लेने की सोची, बड़ी दीदी ने चुपचाप एक गुलक में डाल दिए। मझली दीदी को क़िताबे पढने में रूचि थी पर किराये पर भी किताब 25 पैसे में थी,सो उनके पैसे भी गुलक में गए भाई स्कूल पेदल आता जाता था सो उसके पाच पैसे भी गुलक में गए।
शाम तक 5 पैसे को हाथों में लेकर बैठी रही,क्या पाता बर्फ का गोला मिल जाए या राम जी की खट्टी -मिट्टी गोलियां,पर घर के आस पास कोई खोमचे वाला नहीं आया था। बड़ी दीदी 12 साल की थी मझली दीदी 9 साल की और मैं और भाई जुड़वाँ थे, 6 साल के। उस दिन लगा, काश बड़े होते तो मज़े से पैसे को जेब में रख कर गोला तो खा ही सकते थे।उस दिन वाला सिक्का क्या हर दिन ५ पैसे गुल्क पे मेहरबान हो गए। बड़ी दीदी ही सब में समझदार थी,उन्होंने कहा महीने भर बाद सब सब के पैसे इक्कठे हो जाएगे तब कुछ खरीदेगे , दीदी बड़ी थी उन की बात हम भाई बहनों के बीच ऐसे मानी जाती थी जैसे फौज़ में कमांडर की बात मानी जाती है। रोज़ गुल्क छलकती और हम खुश हो कर अपने सपनों के पंख लेकर उड़ जाते। महीना कुछ पाने की ख़ुशी में ही चला गया।
दीदी ने आकडा लगा कर बताया कुल 6 रूपये है। दीदी किराए पे चार किताब ले सकती थी। बड़ी दीदी अपने मन की डिश बना सकती और मैं खट्टी इमली ,बेग़म की उंगली ना जाने और क्या,पर
भाई चुप रहा क्या हुआ बबलू भैया, मैंने पूछा तो बबलू भाई रो पड़ा,उसके रोंने का कारण समझ
नही आ रहा था। दीदी ने शान्त कराया तो पता लगा , आज पापा का पर्स कट गया था बस मम्मी पापा को लेकर घर आई थी डिस्पेंसरी से, सब सन्न रह गए थे।आज वेतन मिला था, 
माँ रो रही थी पर शांत थी,क्यों अपने गहने बेच दूंगी पर भूखे पेट भगवान नहीं रहने देगा।
देखो ना पाकेट तो मारा ही उसने मुझे धक्का दे कर बस से नीचे भी गिरा दिया, पापा ने माँ को
अपना आधा प्लास्टर लगा सीना दिखाते हुए कहा।
चिंता है अब कैसे, हम चारो के हाथ से गुल्क छुट गयी ६ रूपए मझली दीदी ने माँ को दे दिए।
माँ आपको बड़ी दीदी ने बिना बताए शिखा दीदी के साथ बेठकर साडी फाल और क्रोस स्टिच से
कुछ और रूपये अभी मिले है--७० रूपये। ७६ रुपये बहुत नहीं थे, पर माँ ने उस दिन अपनी भी
रेज़गारी मिला दी जो पुरे ५० रूपये की थी । हिसाब लगाया गया 76 और ५० १२६ रुपए बन गयें थे फिर भी मेहनत की बचत वेतन से अधिक ना थी।
२५ -५० रुपए कम होना बड़ी बात थी फिर भी उस दिन हमारें पास संतोष धन था। वो महीना ज्यादा प्यार से कटा था। उसके बाद शायद ही बिलावजह हममें से कोई रोया होगा।
आराधना राय "अरु"
Post a Comment

Popular posts from this blog

नज़्म

अब मेरे दिल को तेरे किस्से नहीं भाते  कहते है लौट कर गुज़रे जमाने नहीं आते 
इक ठहरा हुआ समंदर है तेरी आँखों में  छलक कर उसमे से आबसर नहीं आते 
दिल ने जाने कब का धडकना छोड़ दिया है  रात में तेरे हुस्न के अब सपने नहीं आते 
कुछ नामो के बीच कट गई मेरी दुनियाँ  अपना हक़ भी अब हम लेने नहीं जाते 
आराधना राय 




नज्म

नज्म
हाल उनको भी पता है जमाने का नही यह काम उनको कुछ बताने का
खुद ही तोड़ दी अपनी हमने अना यह खेल नहीं सनम उनको मनाने का
कभी तो लब पे मेरा नाम लेते वो हमें काम नहीं कुछ उन को जताने का
मेरे इकरार पर उनका इसरार होगा जब तभी तो बात बनेगी रिश्ता निभाने का
आराधना राय
देख कर आए है दुनियाँ सारी
ना वो दर रहा ना वो घर रहा
आँधियों  का डर नहीं था धरोंदे को
मेरा दिल ही हादसों के नज़र रहा
तोड़ दी कमर मेरी गरीबी ने
मै जहां रहा  बे शज़र रहा
आ गए याद मुझे चहरे पुराने
उन्ही के नगर बे डगर रहा
अरु