Skip to main content

Posts

Showing posts from December 2, 2014

आहुति

आहुति
                           उठ रही है ,मन में क्यू चिताएं ।
                          अतिथि बन घर आ गई क्यों आपदाए।
                          प्रश्न है ,सब से कोई उत्तर  सुझाए।
                         किस जगह जा कर बसे , मृदु भावनाए।


                          रुदन  कर  रही है , सब दिशाए ।
                          अवसाद में जन्मी सभी गाथाये ।
                          शोर्ये की, आहुति दे ,चुप  है सभाए ।
                          मौन हो गई जहां पर  , मानवताए  ।
                          भस्मीभूत, है, क्षितिज की आशाएं ।

                        आराधना उर्फ़ तूलिका
copyright rai aradhana rai ©






ग़ज़ल ज़र्रो की

बना के आशियाँ मेरा , वो छुप गया  कहीं
              दरों ,दीवार क़ो बस देखते फिरे  हम यू ही 


              ना  दोस्ती की कभी जोरे ज़ब्र से हमने यू ही              
              कहीं हर एक बात तन्हां खामोशियों से यू ही 

                बदगुमानी ही सही, होती रही मुझको कहीं 
                तेरा साया था जहां रोती रही रात भर यू ही

              ये कहना जुर्म था  'अरू  ' कौन बदहवास कही 
             खून बन के दौड़ता ही फिरा,बरसों रनाइयो में यू ही 
copyright rai aradhana rai ©



;