Skip to main content

Posts

Showing posts from May 14, 2015

मंज़िल ना मिली

ज़िन्दगी जब भी जैसी भी रही
उसी के क़ायदे कानूनों  में ढ़ली

वक़्त का तक़ाज़ा करती ही रही 
ढलती शाम टूटे जाम सी  मिली 

सफऱ में बहुत दूर हमें जाना था
रास्तों में कब अपना ठिकाना था

हर मोड़ पर बस वायदे सी मिली
ज़िन्दगी तू हमें क्यों देर से मिली

रास्तों के बाद बस रास्ते ही मिले
मकां मिला ना हमें मंज़िल ही मिली
आराधना राय