Skip to main content

Posts

Showing posts from March 16, 2015

रिश्ते बदल जाते है

साभार गूगल इमेज

नज़्म
सांसों के अहसास बदल जाते  है
रिश्ते जब अपने से बदल जाते है

खून की ज़ुबा जब खून बोलता नहीं
रिश्ते भी ज़र्द और मंद पड़ जाते है

 राह में मुसलसल  कहीं बह जाते है
छूट कर बहूत आगे दूर चले जाते है

सामने आते है तो बदल जाते है चेहरे
कभी इंसा तो कभी खुदा  बन  जाते है
आराधना

! कौशल !: संस्कृति रक्षण में महिला सहभागिता

! कौशल !: संस्कृति रक्षण में महिला सहभागिता
हुजूम सड़कों पे क्यू आज तारी 
वक़्त -बे वक़्त भीड़ हैक्यू  ज़ारी

हाथ में मोमबत्ती लिए ये  साथ
संवेदनाओं से उलझते हूए  हाथ

राह में गर दिया होता कभी साथ
यू न जलते ,उलझते ये सब साथ

चीख , चीत्कार को जब सुन पाये
 वक़्त पर साथ क्यू  ना तूम आये

क्यों छिड़ी है जंग सड़कों पर आज
क्यों किसी बात को ना समझ पाए

नुचती रहेगी ,जलती बिखरती रहेंगी
जब कहीं कभी भी कोई देगा ना साथ

भीड़ कि आवाज़ भी ये उठती रहेंगी
जब तक ना होगी कभी न्याय से बात
आराधना
http://aradhanakissekahaniyan.blogspot.in/

प्रार्थना

इमेज साभार गूगल

साँझ हो गई है साईं तुम प्रकाश दो
इस हारे मन को प्रभू तुम प्रकाश दो

हो प्रलय कि मौन बेला गहन हो तिमिर
थाम के निष्प्राण को तुम ही आस दो

उदित हो जो नभ में वो चन्द्र हो तुम्हीं
अंधकार भरे इस पथ का तुम प्रकाश हो
मूल रचना आराधना