Skip to main content

Posts

Showing posts from September 29, 2015

ख़्वाहिशें

उन से मिलने की ख़्वाहिशें हज़ार की
दिल ने मिल कर साज़िशें हज़ार की
ना जाने कारवां किधर जा रहा था
सबने आरइशे हज़ार की
अपनी ही मस्ती में सब डूबे हुए थे
बस्तियों में रिहाइशें हज़ार की
साथी अजब से राह में मिल रहे थे
सबने सिफारिशें हज़ार की
सफर रास्तों के ना आसान होंगे
कहने को "अरु" ख़्वाहिशें हज़ार की آرادنا رائے ار