Skip to main content

Posts

Showing posts from February 22, 2015

चन्द शेर ग़ज़ल के जैसे

खामोश हो बहुत कुछ बोलती है
                                                         ना जाने कैसे कैसे राज़ खोलती है

                         जुबां चुप रही मगर  नज़र बोलती है
                          दूर से ही ख्वाबों को बस  देखती है 
                                                                         मेरे दिल के आईने चमक उठते है
                                                                         फिर कोई ख्वाब बन हमें उठता है

                          क्यू चमक उठती है आँखे मेरी ,
                       क्यू कई ख्वाबों ने दस्तक दी है,

                                                                           तेरे साथ वफ़ा का किया एहतराम
                                                                              पासबा  तेरे होके ज़फा बोलती है

                       हम ही अनजान थे रस्म -ए- दुनिया से तेरी
                        ढूंढा किये वफ़ाओ को  भी अदाओं में तेरी

                                                          …