Skip to main content

Posts

Showing posts from January 17, 2015

तुम

समय के मोड पर ,पैर थकने से  लगे
सांसो की नर्मियाँ यू ही मिटने सी लगे

                                                जब सासो की डोर  भी थमने  सी लगे।
                                                  दूर कही  समय पर ताले पड़ने से  लगे।

डूबती उतरती साँझ में ,मैं  घिरने  लगू
   वेदना से अपनी स्वयं ही कही मरने लगू


                        टूटने  लगे विश्वास , आस्था मरने लगे
                          क्षुब्ध हो , मन जब व्यथित होने लगे

                                                 आत्मा ,जब अपने पर ही हसने लगे
                                                 हर  पल मेरा जब कुरुक्षेत्र सा लगने लगे

भोर  बन ,फिर मेरे आँगन में आ जाना
पीड़ इस  ह्रदय कि भी तू सुन जाना
तू कविता बन तब कही से आ जाना
                             एक नई पहचान देने ,फिर से आ जाना

 कृष्णा बन , उपदेश मुझे चाहे ना देना  
 व्यथाओं का आँसुओ का वरदान देना  

                          हूँ मनुज ,इस का मुझे  विश्वास दे देना  
                          एक नया जीवन एक नई पहचान देना  

          मेरे गीत मेरे बोल , को आवाज़  दे देना तुम