Skip to main content

तुम



                                                                                                                      
                                          

               समय के मोड पर ,पैर थकने से  लगे
              सांसो की नर्मियाँ यू ही मिटने सी लगे

                                                जब सासो की डोर  भी थमने  सी लगे।
                                                  दूर कही  समय पर ताले पड़ने से  लगे।

      डूबती उतरती साँझ में ,मैं  घिरने  लगू
   वेदना से अपनी स्वयं ही कही मरने लगू
                                             
                          
                        टूटने  लगे विश्वास , आस्था मरने लगे
                          क्षुब्ध हो , मन जब व्यथित होने लगे
                                                 
                                                 आत्मा ,जब अपने पर ही हसने लगे
                                                 हर  पल मेरा जब कुरुक्षेत्र सा लगने लगे
                             
भोर  बन ,फिर मेरे आँगन में आ जाना
पीड़ इस  ह्रदय कि भी तू सुन जाना

                                            तू कविता बन तब कही से आ जाना
                             एक नई पहचान देने ,फिर से आ जाना
                                           
 कृष्णा बन , उपदेश मुझे चाहे ना देना  
 व्यथाओं का आँसुओ का वरदान देना  
                                    
                          हूँ मनुज ,इस का मुझे  विश्वास दे देना  
                          एक नया जीवन एक नई पहचान देना  

          मेरे गीत मेरे बोल , को आवाज़  दे देना तुम
          मेरी अंतर आत्मा बन मुझे आवाज़ देना तुम 
                                               आराधना। 
                                 copyright : Rai Aradhana ©
               

                                           
                                           
                    अपने आप को आवाज़ देती एक कविता

Post a Comment

Popular posts from this blog

नज़्म

अब मेरे दिल को तेरे किस्से नहीं भाते  कहते है लौट कर गुज़रे जमाने नहीं आते 
इक ठहरा हुआ समंदर है तेरी आँखों में  छलक कर उसमे से आबसर नहीं आते 
दिल ने जाने कब का धडकना छोड़ दिया है  रात में तेरे हुस्न के अब सपने नहीं आते 
कुछ नामो के बीच कट गई मेरी दुनियाँ  अपना हक़ भी अब हम लेने नहीं जाते 
आराधना राय 




नज्म

नज्म
हाल उनको भी पता है जमाने का नही यह काम उनको कुछ बताने का
खुद ही तोड़ दी अपनी हमने अना यह खेल नहीं सनम उनको मनाने का
कभी तो लब पे मेरा नाम लेते वो हमें काम नहीं कुछ उन को जताने का
मेरे इकरार पर उनका इसरार होगा जब तभी तो बात बनेगी रिश्ता निभाने का
आराधना राय

नज्म

उम्र भर के निशा ढूंढते है
ऐ - सहर हम तुझे ढूंढते है तू सितारा है आसमा का 
दर -ब -डर हम तुझे ढूंढते है तू है सागर में भी हु नदिया
तेरे कदमो में पनाह ढूंढते है राते कितनी भी हो गई काली
एक उजाले को हम ढूंढते है ---------------अरु