Skip to main content

Posts

Showing posts from February 23, 2015

जगाए खण्डहर सोता है

सदियों सदियों जागा है वो ,बिसरी बात सुनाने को  नव प्राचिरो से भी झाँका ,खोई बात बताने  को                                             सुनो यहाँ फिर सब अपना खोता है ,जगाये खंडहर सोता है 







                              वरद स्वयम अपना खोता है ,पल पल खड़ा मौन बस रोता है।                                                       जगाये खण्डहर सोता है 

                                   युग -युग तक होकर मौन,अपरिमित गाठों को खोल                                      वीर सा सजग बन ,चुप चाप  सहता है,कुछ ना बोल।                                                            बस अब ये सोता है 

                                    स्वप्न  जड़ित सिंहासन थे ,या फिर कल्पित आधार                                       सच  जब बट कर खड़ा किया था किसने किया उद्धार। 

                                                         कुछ ना कहे जग सोता है 
                                     जिसने जाना ,उसने माना ,ये खंडहर था या स्वप्न विशाल                                       अनुत्त…