Skip to main content

जगाए खण्डहर सोता है





                                              सदियों सदियों जागा है वो ,बिसरी बात सुनाने को 
नव प्राचिरो से भी झाँका ,खोई बात बताने  को 
                                           सुनो यहाँ फिर सब अपना खोता है ,जगाये खंडहर सोता है 








                              वरद स्वयम अपना खोता है ,पल पल खड़ा मौन बस रोता है। 
                                                     जगाये खण्डहर सोता है 


                                   युग -युग तक होकर मौन,अपरिमित गाठों को खोल 
                                    वीर सा सजग बन ,चुप चाप  सहता है,कुछ ना बोल। 
                             
                                                          बस अब ये सोता है 


                                    स्वप्न  जड़ित सिंहासन थे ,या फिर कल्पित आधार 
                                     सच  जब बट कर खड़ा किया था किसने किया उद्धार। 


                                                         कुछ ना कहे जग सोता है 

                                     जिसने जाना ,उसने माना ,ये खंडहर था या स्वप्न विशाल 
                                     अनुत्तरित गाथाओं का आशाओं का,बूझी-अबूझ पहेली सा 
                                                          

                                                    मानो हो सुन्दर एक विहान 


                                    चित्कारें फूटी थी ,पायल गुंजी थी ,या रोया था इतिहास 
                                    क्रंदन था पीड़ाओं का ,पूर्ण -अपूर्ण का मचा हुआ हाहाकार 
                                                                                                                           
                                                                             
                                                 हर पल सब कुछ खोता है 



                                       कितनी गाथाए समेटे ,खुद से खुद कुछ रूठे
                                       कौन जाने किस भार को वहन कर रोता है 


                                         जगाये खण्डहर सोता है। 


                                           copyright : Rai Aradhana ©

          
Post a Comment

Popular posts from this blog

नज़्म

अब मेरे दिल को तेरे किस्से नहीं भाते  कहते है लौट कर गुज़रे जमाने नहीं आते 
इक ठहरा हुआ समंदर है तेरी आँखों में  छलक कर उसमे से आबसर नहीं आते 
दिल ने जाने कब का धडकना छोड़ दिया है  रात में तेरे हुस्न के अब सपने नहीं आते 
कुछ नामो के बीच कट गई मेरी दुनियाँ  अपना हक़ भी अब हम लेने नहीं जाते 
आराधना राय 




नज्म

नज्म
हाल उनको भी पता है जमाने का नही यह काम उनको कुछ बताने का
खुद ही तोड़ दी अपनी हमने अना यह खेल नहीं सनम उनको मनाने का
कभी तो लब पे मेरा नाम लेते वो हमें काम नहीं कुछ उन को जताने का
मेरे इकरार पर उनका इसरार होगा जब तभी तो बात बनेगी रिश्ता निभाने का
आराधना राय
देख कर आए है दुनियाँ सारी
ना वो दर रहा ना वो घर रहा
आँधियों  का डर नहीं था धरोंदे को
मेरा दिल ही हादसों के नज़र रहा
तोड़ दी कमर मेरी गरीबी ने
मै जहां रहा  बे शज़र रहा
आ गए याद मुझे चहरे पुराने
उन्ही के नगर बे डगर रहा
अरु