Skip to main content

Posts

Showing posts from June 10, 2015

देखे कोई

देखे कोई

-------------------------------------------------

मैं रास्ता नहीं कि गुज़र गया कोई
उम्र कि दहलीज़ पर छोड़ गया कोई

कुछ तो तेरा मेरा वास्ता होगा कोई
सदियों तक इंतज़ार नहीं करता कोई

रूह से रूह का फासला यू हुआ है कोई 
जो तेरे मेरे दरम्यान आ गया है कोई

उम्मीद दिल से ही लगता है फिर कोई 
बात जो रह गई वो ही बताता है यू कोई

साथ  ये छूटने वाला कहाँ है  देखे कोई
हँस के कह दी है बात "अरु" तुमने कोई

आराधना राय





دیکھے کوئی

-------------------------------------------------

میں راستہ نہیں کہ گزر گیا کوئی
عمر کہ دہلیز پر چھوڑ گیا کوئی

کچھ تو تیرا میرا واسطہ ہوگا کوئی
صدیوں تک انتظار نہیں کرتا کوئی

روح سے روح کا فاصلہ یو ہوا ہے کوئی
جو تیرے میرے درمیان آ گیا ہے کوئی

امید دل سے ہی لگتا ہے پھر کوئی
بات جو رہ گئی وہ ہی بتاتا ہے یو کوئی

ساتھ یہ چھوٹنے والا کہاں ہے دیکھے کوئی
ہنس کے کہہ دی ہے بات "ار" تم نے کوئی

सताने आई है

किसकी   याद  थी जो सताने आई है
कौन सी  बात पे ये  आँखे भर आई है

तुझे याद ना करने कि क़सम खाई है
इस बात से दिल पे  चोट क्यू आई  है

तू ज़हन में सवालात बन  कर आई है
जवाबों कि किताब तू बन नहीं पाई है

फैसला तद्बीर से बदलने क्यों आई है
 दख़ल दे   'अरु' वो क़त्ल करने आई है

आराधना राय

यू ही सही

उसे मेरा चेहरा इस तरह नागवार गुज़रा
वो मुझे बिना देखे ही सामने से ही गुज़रा

मेरी हर बात का ताल्लुक  उस से  रहा था
सफ़र में अनजान क्यों मुझ से ही रहा था

कितने हसीं ख्वाबों को रोज़ ही तोड़ा उसने
ये दिल ना तोड़ पाया जो  उजड़ा  खुद उसने 

दिल के अरमान थे  चलों नए फूल अब चुनें 
उज़डा सा इक  दयार है उसे सजा के ही चलें

ये तश्नगी मालूम है कुछ पल के लिए ही सही
तड़प सहरा कि है 'अरु' देख लो हमें यू ही सही 
आराधना राय