Skip to main content

कहानी- पहचान



कितनी सुंदर कहानी है, कृष्णा ने अख़बार ला कर दिखाया गोविन्द कुछ ना बोला, अनमना हो कर उसने अख़बार एक तरफ रख दिया । तुम भी तो लिखते हो तुम्हारा नहीं छप सकता, मुस्कुरा कर गोविन्द ने कहा छपते है मेरे नाम से उपन्यास पर ऐसे लोगो के जो होते ही नहीं। कृष्णा हँस कर बोली अच्छा मैंने तो नहीं पढ़े, अब इस के बाद गोविन्द क्या कहता...........खुद लिखो और बाद में किसी और के नाम से पढो, कितना अजीब है, आखिर छदम नाम से लिखने के पैसे भी तो मिलते है।

आज भी याद है एक कविता लिखी थी, फिर रात भर उसे गुनगुनाता रहा था, नहीं मालूम था कि पहली मंजिल पर रहने वाली कोयल सुन कर लिख रही है। अगले दिन कालेज में कविता हिंदी - विभाग में सम्मिलित करवा दी गई, पर करीब आधे - घंटे बाद मुकेश जी ने बुलाया, गोविन्द अचकचाया हुआ सा जब सामने पहुँचा तब कोयल कि कविता आगे कर मुकेश जी मुस्कुरा दिए," ये कह रही है कविता इस की है"

", दोबारा लिखवा ले इससे अच्छी लिख डालूँगा", गोविन्द ने पास से ही कलम उठाया और कागज़ पर लिखना शुरू कर दिया । दोबारा लिखी कविता पहले से कही ज्यादा अच्छी थी, मुकेश जी चुप रहे, कोयल के ख़िलाफ सबूत नहीं है पर मुझे दुःख है कि आज तुम ने एक तरह से उस का साथ दिया ।.

बात आई गई हो गई, कोयल को सिर्फ मुस्कुरा कर बैठने के लिए लड़कों का हुजूम चाहिए  था ,पर जिनको मालूम था वो कभी कोयल कि इज्ज़त नहीं कर पाए।.
ये बात अलग थी कि गोविन्द अभी भी किसी प्रकाशक के  यहाँ छद्म नामधारी लेखक के
रूप में लिख रहा था और कल हीउसने एक कहानी अपनी दोस्त कि पत्नी के लिए लिखी,कभी कोई तो दिन होगा जब उसकी लिखी कहानी कविता उसकी भी होगी, क्योकि चोरी कर खाने पर तो माँ घर में  डांटती थी, चोरी का कभी खाया ही नहीं ।.

कितनी देर तक इसी सोच में बैठा रहा थोड़ी देर बाद कृष्णा ३० हज़ार रुपये ले आई.....
"कहीं से शुरुआत करनी होती है इसबारआप के अपने नाम से किताब छपेगी"...गोविन्द ने कृष्णा कि तरफ देखा ..उसकी आँखों में आँसू थे.... अब बात रूपये पैसे कि नहीं थी पहचान की थी।.दूसरों के नाम से लिखते -लिखते उसे लगा कि वो भी कोई और ही है।.

आराधना राय "अरु"

Post a Comment

Popular posts from this blog

नज़्म

रोज़ मिलती है सरे शाम बहाना लेकर
जेसे अँधेरे में उजालों का फसाना लेकर

चाँद के पास से चाँदनी का खजाना लेकर
मुझको अनमोल सा एक नजराना देकर

मेरा दर दर नहीं कुछ नहीं है क्या उसका
जब भी मिलती है यही एक उलहना लेकर

रात भर कितने आबशार बहा के जाती है
पर वो जाती है तो किस्मत का बहाना लेकर -
आराधना राय

महज़बीं

महज़बीं
अब हवाए भी तेरा हर घड़ी नाम लेती है 
कभी रातों को कोई ये नया पैग़ाम देती है 

तुझे ही सोचते ज़िंदगी तन्हां बसर हुई है
तुझे ही देखते यू ही उम्र सारी गुज़र रही है 

गर -चे तू फ़लक था मैं यू भी महज़बीं रही हूँ 
"अरु" यू भी सितारों से कोई तो राह गुज़री है 
आराधना राय "अरु" 



महज़बीं -उम्मींद कि किरण -Mehjabin is a bright ray of sunshine after a cloudy day.. 

फ़लक - आसमां , स्वर्ग ,संसार     Falak. Means universe- 

नज़्म

उम्र के पहले अहसास सा
कुछ लगता है
वो जो हंस दे तो रात को
 दिन लगता है

उसकी बातों का नशा
आज वही लगता है
चिलमनों की कैद में वो
 जुदा  सा लगता है

उसकी मुट्टी में सुबह बंद है
शबनम की तरह
फिर भी बेजार जमाना उसे
लगता है

आराधना