Skip to main content

तंज़

तंज़
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
वो कहते है बात करना छोड़ दो
आपस में रिश्ता रखना छोड़ दो 
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
मंदिर में भगवान को पूज कर
मस्जिद में कुरान पढ़ना छोड़ दो
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
तलवार मंदिर को करते हो भेंट
मानवता का पाठ पढ़ना छोड़ दो
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
बातें अनर्गल करते है रहे वो खुद
इंसान को इंसान कहना छोड़ दो
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
खा रहे जो नेता इंसानो को रोज़
वो कहते है मांस खाना छोड़ दो
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
हिन्दू से राम मुस्लिम से अल्ल्हा
धर्म से अब मज़ाक करना छोड़ दो
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
धर्म की आड़ में मज़हब के नाम पे
हो रहा आतंकवाद अब तो छोड़ दो
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
मेरी धरती है स्वर्ग पनपे हज़ारो धर्म
एक दूसरे पर तीर चलना अब छोड़ दो
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
गीता पे अंकुश कुरान पे वार जो करे
ऐसे नेताओं को अख़बार में पढ़ना छोड़ दो
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
उठ रहा है नींद से अभी तो सारा संसार
मानवता की बात "अरु" करना ना छोड़ दो
आराधना राय "अरु"
Post a Comment

Popular posts from this blog

महज़बीं

महज़बीं
अब हवाए भी तेरा हर घड़ी नाम लेती है 
कभी रातों को कोई ये नया पैग़ाम देती है 

तुझे ही सोचते ज़िंदगी तन्हां बसर हुई है
तुझे ही देखते यू ही उम्र सारी गुज़र रही है 

गर -चे तू फ़लक था मैं यू भी महज़बीं रही हूँ 
"अरु" यू भी सितारों से कोई तो राह गुज़री है 
आराधना राय "अरु" 



महज़बीं -उम्मींद कि किरण -Mehjabin is a bright ray of sunshine after a cloudy day.. 

फ़लक - आसमां , स्वर्ग ,संसार     Falak. Means universe- 
कैसे -कैसे दिन हमने काटे है 
अपने रिश्ते खुद हमने छांटे है

पाँव में चुभते जाने कितने कांटे है
आँखों में अब ख़ाली ख़ाली राते है

इस दुनिया में कैसे कैसे नाते है
तेरी- मेरी रह गई कितनी बातें है

दिल में तूफान छुपाये बैठे है 
बिन बोली सी जैसे बरसाते है

दो शेर

दो शेर

वो जिधर  निकला काम कर निकला
वो तीर था मेरे जिगर के पार निकला

मेरी खामोशियाँ भी बात मुझे  करती है
तेरी बेवफाईयों को मेरी नजर कर निकला