Skip to main content

ना बिकना आया


   Image result for light     




           ना बिकना आया 
--------------------------------------------
लोग बिक जाते है बस पल -दो पल में ही  
हमें ना इस तरह बाज़ार में बिकना आया 

राह चलतों से बात क्या हम अपनी यू करें 
 जिन्हें नज़रिया भी ना बदलना कभी आया 

अपने ख्वाबों को उम्मीदों के सर ही करते है
रोज़ सिक्कों कि तरह हमें ना बदलना आया  

वो खुश रहे उन्होंने बेंच दी दूसरों कि भी अना 
हमकों दूसरों कि बर्बादियों पे ना हँसना आया 

आराधना राय 

---------------------------------------------------
अना --स्वाभिमान , 




 

Comments

Popular posts from this blog

ज़द्दोज़हद

पैमाने और  पैमानों  के  ऊपर कसी गई 
                                  जंग और जुऊन ऐसा की बस लड़ गई 

                                   कांच के महलों में ,ये दीवानगी हो गई 
                                   मेरी कहानी हर दरीचे को पता  हो गई 

                                   मैं रूह  थी  मेरा  ना  कोई मक़ाम रहा 
                                    ज़र्रे  ज़र्रे  , बिखरी और निखर गई 

                                     देर  से जाना, अपने हिज़र का अंजाम 
                                   सुबह होने तक मैं अपनी ज़बा खुद हो गई 


                                    क्या कहे  "अना" अपनी हम   तुमसे 
                                    खुद रोई मेरी दास्ता   और  फना  हो  गई 


Tulika ग़ज़ल ,गीत ,नग्मे ,किस्से कहानियों का संसार

                                                                 copyright : Rai Aradhana©
''अना''संक्षिप्त नाम का  उर्दू में अना का मतलब है    selfrespect 
from Rekhta in my collection�������…

जन्म

जन्म कहते है दुनिया बहुत छोटी है ,पर फ़िर भी बिछड़े हुए, जब नहीं मिल पाते ,तब हम अपनी तकदीर को कोसते है । छोटी लगने वाली दुनिया अचानक  बड़ी सी लगती है. पर शिशिर जिसे पन्द्रह (15 ) सालों से तलाश रहा था , उसके अचानक मिलने से वो सकपका क्यों गया ? ग्लानि , खेद ,क्षोभ से भर उठा ।  ना चाह कर भी, वही बाते उसके दिमाग मे शोर सा मचा रही थी,   जिन्हें वो भूल जाना चाहता था । कई बार जिन्हें ढूढ़ने के लिए हम बेताब रहते हैं,  जो हमारी ज़िन्दगी की तरह होते है,एक न एक दिन ना मिल पाने की ना उम्मीदी  और वक़्त के साथ आई दूरियों में कही  उनकी यादें धूमिल हो जाती है ,पर अचानक जो हुआ उस के लिए शिशिर तैयार नहीं था ? जो उसे दिखाई दिया , उस से वह कभी भी मिलना नहीं चाहता था , उसे हर शहर -शहर इस लिए नहीं ढूढा  की वो उस से प्यार करता था बल्कि वह  कुछ सुनिचित करना चाहता था, वो सच जो  आज  उसका डर बन गया था । वो समझ ही नहीं पा रहा था ,जो उसके सामने था वो सच है या उस का भर्म पेपर हाथ से छूट कर ज़मीन पर बिखर गए ,आँखों के आगे अँधेरा छाने लगा मानो  दिमाग ने सोचना बंद कर दिया हो । 

पी. के. ने उस की तरफ देखा "क्या हुआ ,शिशिर…

(हास्य व्यं ग) इश्क -मौहब्बत

तमाम इश्क -मौहब्बत के
अफ़साने अधूरे लगते है।
सीरी -फरहाद , हीर-राँझा,
 सोनी- महिवाल , ससि -पूनो
,रोमियो -जूलियट के फ़साने
 बहाने कि तरह लगते है।
मौत को बहला कर हो
गए वो फ़ना
मौहब्बत के लिए गर वो  जीते तो
बहलाते किस तरह
नून ,तेल लकड़ी में फसी
होती सीरी भी हीर भी सोनी भी
राशन कि लाइन में खड़े होते
फरहाद , राँझे , महिवाल ना जाने  किस तरह
या जुटे होते हरे पत्ते कमाने कि होड़ में
तब सीरी , ससि ,सोनी, हीर , जूलियट
लगी होती जीवन के अजीब -गरीब जोड़ में
अब ये बात सोच कर भी हँसी सी आई है
जीवन के उहा -पोस में मौहब्बत कहाँ बच पाई है।
आराधना राय