Skip to main content

गुज़रती हूँ گزرتی ہوں



साभार गूगल

कोई वादा नहीं फिर भी जाने क्यों मिलती हूँ
तुम्हे देख कर जाने क्यों यूँ ही फिर हँसती हूँ

ज़माने भर की कई बातें कह कर गुज़रती  हूँ
बड़ी खामोशियाँ है ज़िंदगी में खुद से डरती हूँ

तेरे सामने से हर रोज़ में जब भी गुज़रती हूँ
तेरे चेहरे की लकीरों को जाने क्यों पढ़ती हूँ

रह- रह कर ख्यालों से अपने क्यों यूँ डरती हूँ
तुम्हें देख कर जाने क्यों" अरु " यूँ मचलती हूँ
आराधना राय "अरु"

کوئی وعدہ نہیں پھر بھی جانے کیوں ملتی ہوں
تمہیں دیکھ کر جانے کیوں یوں ہی پھر ہنستی ہوں

زمانے بھر کی بہت سی چیزیں کہہ کر گزرتی ہوں
بڑی كھاموشيا ہے زندگی میں خود سے ڈرتی ہوں

تیرے سامنے سے ہر روز میں جب بھی گزرتی ہوں
تیرے چہرے کی لکیروں کو جانے کیوں پڑھتی ہوں

ره- رہ کر كھيالو سے آپ کیوں یوں ڈرتی ہوں
آپ کو دیکھ کر جانے کیوں "ار" یوں مچلتي ہوں
آرادنا رائے "ار"

Post a Comment

Popular posts from this blog

नज़्म

अब मेरे दिल को तेरे किस्से नहीं भाते  कहते है लौट कर गुज़रे जमाने नहीं आते 
इक ठहरा हुआ समंदर है तेरी आँखों में  छलक कर उसमे से आबसर नहीं आते 
दिल ने जाने कब का धडकना छोड़ दिया है  रात में तेरे हुस्न के अब सपने नहीं आते 
कुछ नामो के बीच कट गई मेरी दुनियाँ  अपना हक़ भी अब हम लेने नहीं जाते 
आराधना राय 




नज्म

नज्म
हाल उनको भी पता है जमाने का नही यह काम उनको कुछ बताने का
खुद ही तोड़ दी अपनी हमने अना यह खेल नहीं सनम उनको मनाने का
कभी तो लब पे मेरा नाम लेते वो हमें काम नहीं कुछ उन को जताने का
मेरे इकरार पर उनका इसरार होगा जब तभी तो बात बनेगी रिश्ता निभाने का
आराधना राय

नज्म

उम्र भर के निशा ढूंढते है
ऐ - सहर हम तुझे ढूंढते है तू सितारा है आसमा का 
दर -ब -डर हम तुझे ढूंढते है तू है सागर में भी हु नदिया
तेरे कदमो में पनाह ढूंढते है राते कितनी भी हो गई काली
एक उजाले को हम ढूंढते है ---------------अरु