Skip to main content

دورदूर


साभार गूगल



दूर बहुत दूर जाना था
मुझे तेरी दुनियाँ में यूँ लौट के ना आना था

सख्त राहों पे चल कर
मुझे क्यों तेरे पास ही चल के यूँ आना था

तंग हालत के मारे थे
हमें क्या यूँ हँस के 'अरु' तुझे ही समझाना था
आराधना राय 'अरु'
   



دور بہت دور جانا تھا
امجھے تیری دنیا میں یوں لوٹ کے نہ آنا تھا

سخت راہوں پہ چل کر
مجھے کیوں تیرے پاس ہی چل کے یوں آنا تھا

تنگ حالت کے مارے تھے
ہمیں کیا یوں ہنس کے 'ار' تجھے ہی سمجھانا تھا
ارادھنا رائے 'ار'
Post a Comment

Popular posts from this blog

कैसे -कैसे दिन हमने काटे है 
अपने रिश्ते खुद हमने छांटे है

पाँव में चुभते जाने कितने कांटे है
आँखों में अब ख़ाली ख़ाली राते है

इस दुनिया में कैसे कैसे नाते है
तेरी- मेरी रह गई कितनी बातें है

दिल में तूफान छुपाये बैठे है 
बिन बोली सी जैसे बरसाते है

अच्छा था

ज़िन्दगी तेरे बिना जी लेते तो अच्छा था
दामन आंसुओं में भिगो लेते तो अच्छा था
सुना कर हाल दिल का रात भर रोये
तुम से राब्ता न होता दिल का तो अच्छा था
दिल धड़कता रहा मगर जुबा चुप थी
मेरे इकरार को इंकार समझ लेते तो अच्छा था
ख़ुशी की महफिले कम पड़ी गम भुलाने में
हमें तुम याद न आते अरु तो अच्छा था

ग़ज़ल

लगी थी तोमहते उस पर जमाने में
एक मुद्दत लगी उसे घर लौट के आने में

हम मशगुल थे घर दिया ज़लाने में
लग गई आग सारे जमाने में

लगेगी सदिया रूठो को मानने में
अजब सी बात है ये दिल के फसाने में

उम्र गुजरी है एक एक पैसा कमाने में
मिट्टी से खुद घर अपना बनाने में

आराधना राय