Skip to main content

क्या था

aye aru"
---------------------------------------------------
 hume khud se koi bhi vasta na tha
 zindagi main koi bhi rasta na tha

 rahe lambi thi bhut lambi thi mager
 mujhe suraj ka yu vasta hi na  tha

khoye khud hum apne main yu kahi
hame andhero main rasta  na  tha

ruh pyasi rahi sadiyao tak yu hi kahi
inn uzalo se mera kabhi vasta na tha

sapne ankho main yu hi palte kyu rahe
hamko in khwabo se vasta  na tha

yu tera ruk ker chalan kahta tha kabhi
 "aye aru" rasta main koi mila na tha

 क्या था
----------------------------------------------------

हमें खुद से कोई भी वास्ता क्या था
ज़िंदगी में कोई रास्ता ना था

राह लंबी थी बहुत लंबी थी  मगर
उसको सूरज से वास्ता ना था

खोए यू कहीं खुदा अपने में हम कही
हमें अंधेरों में रास्ता ना था

रूह प्यासी रही सदियों तक कहीं
इन उजालों से "अरु"  वास्ता  ना था

copyright : Rai Aradhana ©
---------------------------------------------------------------------------------





















सपने आँखों में जो यू पलते ही क्यू  रहे
हमारा ख़्वाबों से भी वास्ता यही मिला

तेरा रुक के चलना और घबराना यू कभी


 














meri raho main shool ban ke chubhe
teri raho main bhi phool mahkege kahi

yu ager zindagi ka silsila ho gaya hota
 aru  zindagi main andhera ho gaya hota




Post a Comment

Popular posts from this blog

नज़्म

अब मेरे दिल को तेरे किस्से नहीं भाते  कहते है लौट कर गुज़रे जमाने नहीं आते 
इक ठहरा हुआ समंदर है तेरी आँखों में  छलक कर उसमे से आबसर नहीं आते 
दिल ने जाने कब का धडकना छोड़ दिया है  रात में तेरे हुस्न के अब सपने नहीं आते 
कुछ नामो के बीच कट गई मेरी दुनियाँ  अपना हक़ भी अब हम लेने नहीं जाते 
आराधना राय 




नज्म

नज्म
हाल उनको भी पता है जमाने का नही यह काम उनको कुछ बताने का
खुद ही तोड़ दी अपनी हमने अना यह खेल नहीं सनम उनको मनाने का
कभी तो लब पे मेरा नाम लेते वो हमें काम नहीं कुछ उन को जताने का
मेरे इकरार पर उनका इसरार होगा जब तभी तो बात बनेगी रिश्ता निभाने का
आराधना राय
देख कर आए है दुनियाँ सारी
ना वो दर रहा ना वो घर रहा
आँधियों  का डर नहीं था धरोंदे को
मेरा दिल ही हादसों के नज़र रहा
तोड़ दी कमर मेरी गरीबी ने
मै जहां रहा  बे शज़र रहा
आ गए याद मुझे चहरे पुराने
उन्ही के नगर बे डगर रहा
अरु