Skip to main content

ख्वाब आवाज़ देगाخواب آواز دے گانظم

नज़्म

कोई ख्वाब आवाज़ देगा
बुलालेगा ,बैठा लेगा हमे

आहटें ,खोलेगी दरवाज़ा
खामोशियाँ  फिर बातें करे

 गुफ़्तगू यूही चलती रहेगी
बादलों, हवा ,रुखसार की

ज़िन्दगानी बहती रहेगी
बात -बेबात   ,बेबाक़ सी

महफिले ये सजती रहेंगी
साज भी ये  बजते रहेगें

ख्वाब ये   फिर से  सजेंगे
चूड़ियों कि खनहनाहट से

आहटे खोलेंगी ये दरवाज़ा
ख्वाब जब ले आएगा  कोई
copyright : Rai Aradhana ©
आराधना

                                                                                                  کوئی خواب آواز دے گا
بلالےگا، بیٹھا لے گا ہمیں

اهٹے، كھولےگي دروازہ
كھاموشيا پھر باتیں کرے

  گفتگو يوهي چلتی رہے گی
بادلوں، ہوا، ركھسار کی

ذندگاني بہتی رہے گی
بات -بےبات، بےباق سی

مهپھلے یہ سجتي رہیں گی
ساز بھی یہ بجتے رہیں گے

خواب یہ پھر سے سجےگے
چوڑيو کہ كھنهناهٹ سے

اهٹے كھولےگي یہ دروازہ
خواب جب لے آئے گا کوئیانا ''
ارادھنا









Post a Comment

Popular posts from this blog

महज़बीं

महज़बीं
अब हवाए भी तेरा हर घड़ी नाम लेती है 
कभी रातों को कोई ये नया पैग़ाम देती है 

तुझे ही सोचते ज़िंदगी तन्हां बसर हुई है
तुझे ही देखते यू ही उम्र सारी गुज़र रही है 

गर -चे तू फ़लक था मैं यू भी महज़बीं रही हूँ 
"अरु" यू भी सितारों से कोई तो राह गुज़री है 
आराधना राय "अरु" 



महज़बीं -उम्मींद कि किरण -Mehjabin is a bright ray of sunshine after a cloudy day.. 

फ़लक - आसमां , स्वर्ग ,संसार     Falak. Means universe- 
कैसे -कैसे दिन हमने काटे है 
अपने रिश्ते खुद हमने छांटे है

पाँव में चुभते जाने कितने कांटे है
आँखों में अब ख़ाली ख़ाली राते है

इस दुनिया में कैसे कैसे नाते है
तेरी- मेरी रह गई कितनी बातें है

दिल में तूफान छुपाये बैठे है 
बिन बोली सी जैसे बरसाते है

दो शेर

दो शेर

वो जिधर  निकला काम कर निकला
वो तीर था मेरे जिगर के पार निकला

मेरी खामोशियाँ भी बात मुझे  करती है
तेरी बेवफाईयों को मेरी नजर कर निकला