Skip to main content

तू *नज़्म تو

                       
beautiful, sunset, images
           तू   
तेरा होकर भी वह तेरा नहीं होता कभी
वह बेखबर है या यू ही जताते नहीं, कभी

शाम ही दीपक जले थे, यही पे कहीं

यह और बात है, तेरा इंतजार था, हमें कभी

कुछ लकीरें मेरे हाथों पर उभर आई हैं

पर तेरा नाम दिखाई नहीं देता मुझे कभी


 दर्ज़ आज भी हैं, दिल के मेरे पन्नों पर
सभी बातें, सारी रात चलती रही कहीं
    

वो अक्स आता है, आज भी याद मुझे  
मेरा वज़ूद था,जिस के हमनवा थे कभी  
   
आराधना " अना "


copyright : Rai Aradhana ©




تو

تیرا ہو کر بھی وہ تیرا نہیں ہوتا کبھی

وہ بے خبر ہے یا یو ہی جتاتا نہیں، کبھی



شام ہی چراغ جلے تھے، یہی پہ کہیں

یہ اور بات ہے، تیرا انتظار تھا، ہمیں کبھی


چند لکیریں میرے ہاتھوں پر ابھر آئی ہیں
پر تیرا نام دکھائی نہیں دیتا مجھے کبھی

نقش اذ بھی ہیں، دل کے میرے صفحات پر
تمام باتیں، ساری رات چلتی رہی کہیں

  وہ عکس آتا ہے، آج بھی یاد مجھے
میرا وجود تھا، جس کے همنوا تھے کبھی
    ارادھنا "انا"
Post a Comment

Popular posts from this blog

नज़्म

अब मेरे दिल को तेरे किस्से नहीं भाते  कहते है लौट कर गुज़रे जमाने नहीं आते 
इक ठहरा हुआ समंदर है तेरी आँखों में  छलक कर उसमे से आबसर नहीं आते 
दिल ने जाने कब का धडकना छोड़ दिया है  रात में तेरे हुस्न के अब सपने नहीं आते 
कुछ नामो के बीच कट गई मेरी दुनियाँ  अपना हक़ भी अब हम लेने नहीं जाते 
आराधना राय 




नज्म

नज्म
हाल उनको भी पता है जमाने का नही यह काम उनको कुछ बताने का
खुद ही तोड़ दी अपनी हमने अना यह खेल नहीं सनम उनको मनाने का
कभी तो लब पे मेरा नाम लेते वो हमें काम नहीं कुछ उन को जताने का
मेरे इकरार पर उनका इसरार होगा जब तभी तो बात बनेगी रिश्ता निभाने का
आराधना राय
देख कर आए है दुनियाँ सारी
ना वो दर रहा ना वो घर रहा
आँधियों  का डर नहीं था धरोंदे को
मेरा दिल ही हादसों के नज़र रहा
तोड़ दी कमर मेरी गरीबी ने
मै जहां रहा  बे शज़र रहा
आ गए याद मुझे चहरे पुराने
उन्ही के नगर बे डगर रहा
अरु