Skip to main content

थकन تھكن


थकन

 


कई बातें दफ़न हैं ,वक़्त की दीवारों में 

हाथ से छू कर ,देखोगे तो क्या पाओगे




झूठ जब बोलता है, बस खामोशियों में
सच को आवाज़ दे कर, क्या पा जाओगे 




चीखती ,पुकारती ,गलियों के सच में

बेनाम चिठ्ठी की तरह गुम हो जाओगे 

इस भागते ,दौड़ते ,आवारा से शहर में 
मेरे पास थककर  फिर लौट आओगे। 

दोस्ती का हक़ अदा कर जाएगी "अरू "
ज़िंदगानी ,जब मौत बन कर  आयेगी 
copyright : Rai Aradhana ©
………..................................आराधना ..............   



تھكن


کئی باتیں دفن ہیں، وقت کی دیواروں میں
ہاتھ سے چھو کر، دیکھو گے تو کیا پاؤگے

جھوٹ جب بولتا ہے، صرف كھاموشيو میں
سچ کو آواز دے کر، کیا پا جاؤ گے

چیختی، پكارتي، گلیوں کے سچ میں
گمنام چٹھٹھي کی طرح گم ہو جاؤ گے

اس بھاگتے، دوڑتے، آوارہ سے شہر میں
میرے پاس تھک پھر لوٹ آؤ گے.

دوستی کا حق ادا کر جائے گی "انا"
ذدگاني، جب موت بن کر آئے گی

............ .................................. آ رادھنا .......... ....

Post a Comment

Popular posts from this blog

नज़्म

अब मेरे दिल को तेरे किस्से नहीं भाते  कहते है लौट कर गुज़रे जमाने नहीं आते 
इक ठहरा हुआ समंदर है तेरी आँखों में  छलक कर उसमे से आबसर नहीं आते 
दिल ने जाने कब का धडकना छोड़ दिया है  रात में तेरे हुस्न के अब सपने नहीं आते 
कुछ नामो के बीच कट गई मेरी दुनियाँ  अपना हक़ भी अब हम लेने नहीं जाते 
आराधना राय 




नज्म

नज्म
हाल उनको भी पता है जमाने का नही यह काम उनको कुछ बताने का
खुद ही तोड़ दी अपनी हमने अना यह खेल नहीं सनम उनको मनाने का
कभी तो लब पे मेरा नाम लेते वो हमें काम नहीं कुछ उन को जताने का
मेरे इकरार पर उनका इसरार होगा जब तभी तो बात बनेगी रिश्ता निभाने का
आराधना राय

नज्म

उम्र भर के निशा ढूंढते है
ऐ - सहर हम तुझे ढूंढते है तू सितारा है आसमा का 
दर -ब -डर हम तुझे ढूंढते है तू है सागर में भी हु नदिया
तेरे कदमो में पनाह ढूंढते है राते कितनी भी हो गई काली
एक उजाले को हम ढूंढते है ---------------अरु