Skip to main content

पैगाम


पैगाम

आई बहार , और ले गई
दिल  के करार  को
चन्द हादिसे नज़र रहे
इस   बू-  ऐ- यार को

कुछ चाहते बची रही
वो भी  ख़ार हो चली
क्या रह गया ना पूछिये
दिल -ए -दागदार क़ो


बीती हुई एक बात कही
दिले  नागवार को
कुछ तो गिला रहे   कही
'अरू  ' अबकी बार तो


copyright : Rai Aradhana ©


Paigāma 
ā'ī bahāra, aura lē ga'ī
dila kē karāra kō
canda hādisē nazara rahē
isa bū- ai- yāra kō

kucha cāhatē bacī rahī
vō bhī ḵẖāra hō calī
kyā raha gayā nā pūchiyē
dila -ē -dāgadāra qō


bītī hu'ī ēka bāta kahī
dilē nāgavāra kō
kucha tō gilā rahē kahī
'anā' abakī bāra tō



پیغام

آئی بہار، اور لے گئی
دل کے معاہدہ کو
چند حادثے نظر رہے
اس بو- ے- یار کو

کچھ چاہتے بچی رہی
وہ بھی خار ہو چلی
کیا رہ گیا نا پوچھيے
دل محمد -داگدار قو


بیتی ہوئی ایک بات کہی
دل ناگوار کو
کچھ تو گلہ رہے کہی
'انا' اب کی بار تو
Post a Comment

Popular posts from this blog

नज़्म

अब मेरे दिल को तेरे किस्से नहीं भाते  कहते है लौट कर गुज़रे जमाने नहीं आते 
इक ठहरा हुआ समंदर है तेरी आँखों में  छलक कर उसमे से आबसर नहीं आते 
दिल ने जाने कब का धडकना छोड़ दिया है  रात में तेरे हुस्न के अब सपने नहीं आते 
कुछ नामो के बीच कट गई मेरी दुनियाँ  अपना हक़ भी अब हम लेने नहीं जाते 
आराधना राय 




नज्म

नज्म
हाल उनको भी पता है जमाने का नही यह काम उनको कुछ बताने का
खुद ही तोड़ दी अपनी हमने अना यह खेल नहीं सनम उनको मनाने का
कभी तो लब पे मेरा नाम लेते वो हमें काम नहीं कुछ उन को जताने का
मेरे इकरार पर उनका इसरार होगा जब तभी तो बात बनेगी रिश्ता निभाने का
आराधना राय

नज्म

उम्र भर के निशा ढूंढते है
ऐ - सहर हम तुझे ढूंढते है तू सितारा है आसमा का 
दर -ब -डर हम तुझे ढूंढते है तू है सागर में भी हु नदिया
तेरे कदमो में पनाह ढूंढते है राते कितनी भी हो गई काली
एक उजाले को हम ढूंढते है ---------------अरु