Skip to main content

اعتراف - Itiraf एतरफ (Confession )

         
    साभार    गूगल   इमेज               


    
                       नज़्म 

 एतरफ اعتراف Confession  

दिली एहतमाद है मुझे तुझसे जो है 

एक दूसरे का बस  एहतराम ,नहीं है

दिल ने दिल से कहीं, वो बात नहीं है 

तन्हाइयों के नाम मेरा पैगाम यही है

रुसवाईयाँ,शिक़वे गिले सब नज़र में है 
पर तुझ को छोड़ कर मंज़िल ही नहीं है 

मेरी दुनिया तेरी उम्मीदों से यूँ परे ही है  
वादे है ,हसींन मगर फ़रेब की तरह ही है  

ये दुनियाँ सरकश सी सराब की तरह यूँ है  

दिखता है क्या न पूछिये  बाजार ही तो है 
मायूस हूँ ,खुद से मगर ना उम्मीद नहीं हुँ 
ये हौसला इस जद्दोजहद में बाकी है दोस्त   ,

टूटेगा तेरा , इस्रार इक रोज़ तो मेरे ही आगे,
झुकता है कभी आसमां ज़मी के  कही आगे  

इस , ताबो , तपिश की भी ना  तासीर रहेगी ,
तद्बीर -ऐ -तब्बसुम फ़क़त रह जायेगा बाकी ,

ये मुझ को यकीं है,मेरी जान बस यही यकीं है 
कहता रहे ज़माना जो कहे "अरु " बात यही  है 
copyright : Rai Aradhana © 





محبت، تجھے بھی ہے. مجھے بھی ہے
ایک دوسرے پہ بس احترام نہیں ہے،
دل نے دل سے کہیں، وہ بات نہیں ہے
تنهايو کے نام میرا پیگام یہی ہے (احترام -respect
رسواييا، شقوے یہ گلے،
سب کچھ ہے نظر میں،
اب جائے کہو،
کوئی بتائے جكها،
میری دنیا بھی ہے،
تیری امميدو تلے.
تیرے وعدے بھی ہے،
هسين تیرے فریب
کی طرح،
تیری دنيا بھی ہے
سرکش، اک سراب کی طرح. (سرکش - Contumacious_)
                                                                                 (سراب miraj)
مایوس ہوں، میں تجھ سے مغر
مایوس نہیں ہوں
کچھ حوصلہ
باقی ہے
ابھی اس جدوجہد میں،
ٹوٹےگي تیرا، اصرار (اصرار = هٹھتا،)
ایک دن میرے آگے،

یہ، تابو، تپش
کی بھی نہ تاثیر رہے گی،
تدبير -ے -تببسم
رہ جائے گا باقی،
یہ مجھ کو يكي ہے،
فقط اتنا يكي ہے

Tulika غزل، گیت، نگمے، قصے کہانیوں کی دنیا
  






Post a Comment

Popular posts from this blog

नज़्म

अब मेरे दिल को तेरे किस्से नहीं भाते  कहते है लौट कर गुज़रे जमाने नहीं आते 
इक ठहरा हुआ समंदर है तेरी आँखों में  छलक कर उसमे से आबसर नहीं आते 
दिल ने जाने कब का धडकना छोड़ दिया है  रात में तेरे हुस्न के अब सपने नहीं आते 
कुछ नामो के बीच कट गई मेरी दुनियाँ  अपना हक़ भी अब हम लेने नहीं जाते 
आराधना राय 




कैसे -कैसे दिन हमने काटे है 
अपने रिश्ते खुद हमने छांटे है

पाँव में चुभते जाने कितने कांटे है
आँखों में अब ख़ाली ख़ाली राते है

इस दुनिया में कैसे कैसे नाते है
तेरी- मेरी रह गई कितनी बातें है

दिल में तूफान छुपाये बैठे है 
बिन बोली सी जैसे बरसाते है
देख कर आए है दुनियाँ सारी
ना वो दर रहा ना वो घर रहा
आँधियों  का डर नहीं था धरोंदे को
मेरा दिल ही हादसों के नज़र रहा
तोड़ दी कमर मेरी गरीबी ने
मै जहां रहा  बे शज़र रहा
आ गए याद मुझे चहरे पुराने
उन्ही के नगर बे डगर रहा
अरु