Skip to main content

मेरी,तुम्हारी बातें



बातें जो ख़त्म नहीं होती , शौक जनून नहीं होता। 
"शौके -ए -जनून है मुझे ,और जनून इश्क है ,ये ही इश्क मेरा खुदा रहा"। 
बचपन से कहानी कहने का शौक था,मेरी कहानियाँ भी अजीब होती थी,मॉडर्न ज़माने की चिडिया, बोलू कुत्ता, किसी भी खाली पीरियड में लड़कियों के गोलधारे  के बीच मे बैठ कर अपनी खुद की कहानियों को अंजाम दिया करती थी। कब मेरी कहानियाँ एक  मेरी हमजोलियों को पसंद आने लगी और न जाने कब  मैं कहानियों को लिखने लगी । ये मैंने जाना ही नहीं अगर मेरी बहन के हाथ कुछ आध लिखे पन्नें न लगे होते तो शायद कभी सिलसिलेवार लिखने  की कोशिश, कोशिश  ही रह जाती । वो मेरी मझली दीदी ही थीं जिन्होने मेरी कोशिशो को शक्ल दी । आज उन्हीं कहानियों को फिर से नए रूप मे लिखने की कोशिश दोहरा रही हूँ । 

अगर आप इस ब्लॉग से जुड़े तो पाएंगे रोज़ एक कहानी जो आपकी बातों से गली से जुडी होगी अगर आप इस ब्लॉग पर नया कुछ अपना लिखना चाहे अपंने नाम के साथ तो आप का स्वागत है । आज एक कहानी की शुरुआत की है । 
कहानी का नाम है," जन्म "
copyright rai aradhana rai ©


.................................................................................................
बाते कहानियों सी 

विश्वास इस नाम कि कहानी तीन घण्टे में पूरी हो गई , जिसका श्रेय 
राग शंकरा पर आधारित दुर्गा की स्त्रुति को है, कुछ सुने ,कुछ अनसुने 
बोलो को एक कर स्त्रुति इस प्रकार है 
विश्वास  …  यू तो लिखनी नहीं थी इस कहानी का जन्म महज़ तीन घंटे 
में हुआ।  दुर्गा की एक स्त्रुति लिखी जो इस तरह है। 
     चङ , मुंड  विनाशनी,                                                          शक्ति रूप विराजनी  
                                   अम्बा ,जगतजननी ,कार्यविधायनी   
                                महिषा सुर मर्दनी , करवीर निवासनी  
                                दानव दुष्ट संघारणीबहुबल प्रदायनी 
                               
  नारी शक्ति रूपा ,दुर्गा , भवानी , 
                                   सुरेश्वरिनिर्बल को बल दायनी 

                                 सबल रूप ,शक्ति तुम देवी हो धारति  
                                कण -कण , ये वसुन्धरा तुम्हे पुकारती   
                                नारी , बिना इस जगत को कौन जान पाता  
                              तूझे ही  तिमिर घौर रात्री में , जगत ध्याता                                          
                               तू ही , विद्या दात्री , शक्ति समन्विता  
                               हर  नारी मे , ज्वाला बन हुँकारतीपुकारती  

इसी को मन में रख कर दुर्गा शक्ति नाम से कहानी लिखी थी उसी कहानी को विश्वास नाम से ब्लॉग पर उतार दिया। मेरी सोच के अनुसार विश्वास ही वो भाव है जो पत्थर को मूरत रूप दे ईश्वर को भी जगा सकता है।           इस लिए   कहानी का नया नाम दिया। जो है तो संघर्ष की कहानी है बरहाल संघर्ष की दास्तान चन्द शब्दों की नहीं होती।                      
 मेरी आने वाली कहानियाँ नारी मन को उजागार करती रहेंगी। 
अना नाम से कुछ नज़म कुछ ग़ज़ल लिखे है उम्मीद है पसंद आयेंगे 

कॉपीराइट @आराधना राय 
copyright rai aradhana rai ©


Post a Comment

Popular posts from this blog

नज़्म

अब मेरे दिल को तेरे किस्से नहीं भाते  कहते है लौट कर गुज़रे जमाने नहीं आते 
इक ठहरा हुआ समंदर है तेरी आँखों में  छलक कर उसमे से आबसर नहीं आते 
दिल ने जाने कब का धडकना छोड़ दिया है  रात में तेरे हुस्न के अब सपने नहीं आते 
कुछ नामो के बीच कट गई मेरी दुनियाँ  अपना हक़ भी अब हम लेने नहीं जाते 
आराधना राय 




नज्म

नज्म
हाल उनको भी पता है जमाने का नही यह काम उनको कुछ बताने का
खुद ही तोड़ दी अपनी हमने अना यह खेल नहीं सनम उनको मनाने का
कभी तो लब पे मेरा नाम लेते वो हमें काम नहीं कुछ उन को जताने का
मेरे इकरार पर उनका इसरार होगा जब तभी तो बात बनेगी रिश्ता निभाने का
आराधना राय
देख कर आए है दुनियाँ सारी
ना वो दर रहा ना वो घर रहा
आँधियों  का डर नहीं था धरोंदे को
मेरा दिल ही हादसों के नज़र रहा
तोड़ दी कमर मेरी गरीबी ने
मै जहां रहा  बे शज़र रहा
आ गए याद मुझे चहरे पुराने
उन्ही के नगर बे डगर रहा
अरु