Skip to main content

नये युग की प्रीत नज़्म




इश्क़ में हार - जीत की बाज़ी है
हर शक्स इस खेल से राज़ी है

हुई किसकी ख़ुशी से सगाई है
दहेज़ संग कितना  यहाँ लाई है

हिना कितनी हाथों पे लगाई है
महक उड़ गयी लकीरे लगाई है

चाँद का अक्स रोज़ -रोज़ देखा है
 पैरों उचक कर हर पल को रोका है

हजारों में  रिश्ता माँ का होता है
पाक-साफ  "अरु" प्यार होता है

आराधना राय अरु


ہر شكس اس کھیل سے راضی ہے

ہوئی کس کی خوشی سے منگنی ہے
دهےذ ساتھ کتنا یہاں لائی ہے

حنا کتنی ہاتھوں پہ لگائی ہے
مہک اڑ گئی لكيرے لگائی hi

چاند کا عکس روز -روذ دیکھا ہے
  پیروں اچک کر ہر لمحے کو روکا ہے

ہزاروں کی تعداد میں رشتہ ماں کا ہوتا ہے
پاک صاف "ار" محبت ہوتی ہے

آرادنا رائے


Ishq defeat - is bet to win
Everyone agrees with this game Simpsons

Who has been engaged to gladly
What has brought him here dowry

Henna is made on how many hands
Hi had flew away smelling Lkire

Rose is a reflection of the moon seen -rojh
 Every moment is prevented legs super-

Education is the mother of thousands
Clean "Aru" would love

Worship opinion Aru

Post a Comment

Popular posts from this blog

नज़्म

अब मेरे दिल को तेरे किस्से नहीं भाते  कहते है लौट कर गुज़रे जमाने नहीं आते 
इक ठहरा हुआ समंदर है तेरी आँखों में  छलक कर उसमे से आबसर नहीं आते 
दिल ने जाने कब का धडकना छोड़ दिया है  रात में तेरे हुस्न के अब सपने नहीं आते 
कुछ नामो के बीच कट गई मेरी दुनियाँ  अपना हक़ भी अब हम लेने नहीं जाते 
आराधना राय 




नज्म

नज्म
हाल उनको भी पता है जमाने का नही यह काम उनको कुछ बताने का
खुद ही तोड़ दी अपनी हमने अना यह खेल नहीं सनम उनको मनाने का
कभी तो लब पे मेरा नाम लेते वो हमें काम नहीं कुछ उन को जताने का
मेरे इकरार पर उनका इसरार होगा जब तभी तो बात बनेगी रिश्ता निभाने का
आराधना राय
देख कर आए है दुनियाँ सारी
ना वो दर रहा ना वो घर रहा
आँधियों  का डर नहीं था धरोंदे को
मेरा दिल ही हादसों के नज़र रहा
तोड़ दी कमर मेरी गरीबी ने
मै जहां रहा  बे शज़र रहा
आ गए याद मुझे चहरे पुराने
उन्ही के नगर बे डगर रहा
अरु