Skip to main content

सखी मित्र




     

       सखी ,मित्र
-------------------------------------
 सुधियों के आँगन में मुस्कुराता है
 गीत सा कोई यू ही गुनगुनाता है

 उर में जो वह बसा कब का  हुआ है
मेरे संग ही तो वह प्रतिपल रहा  है

सखी तुम्हारी स्मृति सा वह यू तो है
प्रेम तुम्हारा उसमें ही अब साकार है

स्वपन का कोई वो नया सा आकाश है
ना जाने किस रीत का वह ही आधार है

प्रणय -सिंधु सा है वो ही अचल हुआ है
प्रीत कि धरोहर हिय में ही सजल हुआ है

मित्रता के क्षितिज पे वह हर्षित हुआ है
"अरु "नयनों में वो ही तो छाया हुआ है
आराधना राय
 Rai Aradhana ©






Comments

Popular posts from this blog

ज़द्दोज़हद

                                                                                                                                                                                                                                         पैमाने और  पैमानों  के  ऊपर कसी गई                                    जंग और जुऊन ऐसा की बस लड़ गई                                     कांच के महलों में ,ये दीवानगी हो गई                                     मेरी कहानी हर दरीचे को पता  हो गई                                     मैं रूह  थी  मेरा  ना  कोई मक़ाम रहा                                      ज़र्रे  ज़र्रे  , बिखरी और निखर गई                                       देर  से जाना, अपने हिज़र का अंजाम                                     सुबह होने तक मैं अपनी ज़बा खुद हो गई                                                                              क्या कहे  "अना" अपनी हम   तुमसे                                      खुद रोई मेरी दास्ता   और  फना  हो  गई                             

बहते धारे में

वक़्त के बहते धारे में हालत अक़्सर बदल ही जाते है एक बून्द है हम पानी की अक्स बदल कर बहते ही जाना है ख़ामोश हो चुके कहने वाले जो थे ज़िन्दगी को ज़ुबान देने वाले आज मेरा कल तेरा बहाना है 'अरु' ज़िन्दगी को किसने अभी जाना है आराधना राय "अरु " Rai Aradhana © وقت کے بہتے دھارے میں حالت اقسر بدل ہی جاتے ہیں ایک بوند ہے ہم پانی کی عکس بدل کر بہتے ہی جانا ہے خاموش ہو چکے کہنے والے جو تھے زندگی کو زبان دینے والے آج میرا کل تیرا بہانہ ہے 'ار' زندگی کو کس نے ابھی جانا ہے ارادھنا رائے "ار" Rai Aradhana © خراب Google Translate for Business:Translator ToolkitWebsite TranslatorGlobal Market Finder Turn off instant translationAbout Google TranslateMobileCommunityPrivacy & TermsHelpSend feedback

विश्व- मैत्री

------------------------------------------- स्रृष्टि , जब भक्ति बन गई जगत जलचर सभी शुभ हो जायेंगे  राम कि अयोध्या , जीवन हो जाएगे श्याम और राधा का प्रेम यही पायेगे विश्व जब सद भावना के लिए विश्व -बंधुत्व दिवस बन जाएगा कोई एक दूसरे से अलग कैसे रह पायेगा गायन , वादन , नृत्य से कला देवी शारदा कोजब पाएगे राम -राज्य बन साकेत सा जीवन यही हो जायेगा प्रेम कि धारा ,सूर्ये कि शक्ति भी आएगी जब जीवन तू स्वयं शिव सार्थक हो जायेगा तब पार्वती को शिव राधा को कृष्ण पाकर गणेशं कि मंगल कामना से हर घर जगमगाएगा उस दिन ईश्वर तू धरती पर उत्तर आएगा जीवन उन्नत शिखर हो जायेगा। पूर्ति स्वयम ईश्वर वसुंधरा का हो जाएगा स्त्री- पुरुष से ,सृष्टि करेगी,अपना श्रिंगार जीवन निरंतर धीरे धीरे आएगा ,सुर का सुरेश्वर ,महेश्वरि भी अपनाएगा "अरु " का जीवन सुरभित हो जाएगा आराधना राय Like Comment Share